Dating Tips

जिन्दगी का महकता गुलदस्ता

218 Posts

721 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2940 postid : 605

रिश्तों की उधेड़बुन –भाग 3

Posted On: 29 Jun, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

LOVE STORY IN HINDI

रिश्तों की उधेड़बुन – भाग 1 LOVE STORY IN HINDI


सभी शादी-शुदा मर्दो के लिए खास: लड़की पटाने के तरीके: Ladki Patane ke Tarike (Round-Up)


अब तक आपने पढ़ा कि किस तरह निशा ललित से दूर हुई और दया के पास आई और फिर किस तरह वह दुबारा ललित के पास आई. अब आगे….


एक दिन निशा का मन बहुत दुखी था. शायद दया ने उसे डांटा था और गालियां भी दी थी. इसलिए निशा ने फोनकरके ललित को अपने दिल को बहलाने के लिए बुला लिया. मौका नाजुक था. निशा ललित के कंधे पर सर रखकर बहुत रोई. दोनों की यह नजदीकी बहुत बढ़ गई और देखते ही देखते निशा ने सारी मर्यादा तोड़ ललित से शारीरिक संबंध बना लिए. अब इसे बेवफाई कहे या वक्त की नाजुक नब्ज, पर निशा ने एक ऐसा कदम उठा लिया जिसे वह अपना हक मानती थी और इसके पीछे उसका तर्क था कि उसे भी तो छोटी-सी खुश पाने का हक है.


खैर यह छोटी-सी खुशी अब उसे बहुत बड़ी लगने लगी. ललित का साथ उसे दया से भी ज्यादा अच्छा लगने लगा. ललित के साथ बिताया गया थोड़ा-सा ही समय उसे दया के साथ बिताए दिन भर से ज्यादा बेहतर लगने लगा. हालात ऐसे हो गए कि अब हर संडे का निशा बेकरारी से इंतजार करती और ललित के साथ अपना संडे अपने मन-मुताबिक बिताती. जिस प्रेम कहानी को निशा ने प्यार से शुरु किया था कहीं ना कहीं अब उसके सेक्स का तड़का लग गया था.


पर कहते हैं हम इंसानों की एक आदत होती है कि वह हद से ज्यादा किसी चीज से संतुष्ट नहीं हो पाते. कुछ ही दिनों में ललित को भी अपने घर की जिम्मेदारियां निभानी पड़ी और उसका निशा से मिलना कम हो गया. और अब दया के साथ भी निशा का वैवाहिक जीवन कुछ खास नहीं चल  रहा था. धीरे-धीरे निशा को आत्म-ग्लानि होने लगी.



लेकिन एक दिन कुछ ऐसा हुआ जिसने निशा को सही और गलत के बीच का फर्क कांच की तरह साफ कर दिया. उस दिन बरसात हो रही थी. निशा की थोड़ी तबियत खराब थी.दया काम पर गया था और इसी बीच ललित ने फोन करके निशा से कहा कि वह आ रहा है. निशा ने लाख मना किया पर ललित जी आज थोड़े मूड में थे सो आ गए. निशा की तबियत पहले ही खराब थी और ऊपर से ललित भी आ गया. अभी ललित आया ही था कि निशा की तबियत बिगड़ने लगी और उसे चक्कर आने लगे. निशा को ऐसी हालत में देख कर तो ललित के होश उड़ गए. वह फौरन निशा को उसी हालत में छोड़कर वहां से भाग गया. जिस समय निशा को उसके सहारे जरूरत थी उसी समय ललित वहां से चला गया.


Real Stories of Love, Sex and DHokha

NEXT PART…..Click here: PART 4



Tags:                             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (18 votes, average: 3.39 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Doyle Mcnear के द्वारा
February 1, 2017

Greetings! Very helpful advice on this article! It is the little changes that make the biggest changes. Thanks a lot for sharing!

sumit के द्वारा
July 10, 2012

dear sir pls. post of part रिश्तों की उधेड़बुन –भाग 4 its’s a very urgently & immediately thank you sumit tyagi

    राहुल के द्वारा
    July 10, 2012

    yahaa se padh lo bro ……….datingtips.jagranjunction.com/2012/07/04/a-love-story-in-hindi-%e0%a4%aa%e0%a5%8d%e0%a4%b0%e0%a5%87%e0%a4%ae-%e0%a4%95%e0%a4%b9%e0%a4%be%e0%a4%a8%e0%a5%80/


topic of the week



latest from jagran