Dating Tips

जिन्दगी का महकता गुलदस्ता

218 Posts

736 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2940 postid : 552

हीर और रांझे की प्रेम कहानी: Love Tips for Boys

Posted On: 10 Feb, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ताजा मौसम प्यार का है जहां देखो प्यार अपनी बांहे फैलाएं सबको बुला रहा है. फरवरी में रोज डे से लेकर वैलेंटाइन डे तक सब प्यार के ही खुमार में डुबे रहेंगे. तो चलिए इस प्यार के मौसम में जानते हैं कुछ ऐसी जोड़ियों के बारें में जिन्होंने वाकई प्यार को दुनिया में सच साबित कर दिखाया. इनके प्यार के आगे दुनिया हमेशा झुक कर सलाम करती हैं. इस जोड़ी में पहला नाम आता है हीर और रांझे का.


Couples__Aladdin_and_Jasmine_by_mistytangकहानी हीर और रांझे की

रांझा को बचपन में ही खूबसूरती से इश्क था। उसने अपने लिए सपनों में ही एक हसीना की तस्वीर गढ़ ली थी। तख्त हजारा के सरदार का बेटा रांझा आशिक मिजाज था। बारह साल की उम्र में पिता का साया उसके सिर से उठ गया था। अपने भाइयों से अलग होकर वह सारा दिन पेड़ों के नीचे बैठा रहता और अपने सपनों की शहजादी के बारे में सोचा करता था। एक बार एक पीर ने उससे पूछा-तुम इतने दुःखी क्यों हो? तब रांझा ने पीर को अपने द्वारा रचित प्रेम गीत सुनाए, जिसमें सपनों की शहजादी का उल्लेख था। पीर ने बताया कि तुम्हारे सपनों की शहजादी हीर के अलावा और कोई नहीं हो सकती। यह सुन रांझा अपनी हीर की तलाश में निकल पड़ा।

हीर बहुत सख्त दिमाग वाली लड़की थी। एक रात रांझा चुपके से हीर की नाव में सो गया। यह देख हीर आगबबूला हो गई, लेकिन जैसे ही उसने जवाँ मर्द रांझे को देखा, वह अपना गुस्सा भूल गई और रांझा को देखती ही रह गई। तब रांझा ने उसे अपने सपनों की बात कही। रांझे पर फिदा हीर उसे अपने घर ले गई और अपने यहाँ नौकरी पर रखवा दिया।

हीर-रांझा की मुलाकातें मोहब्बत में बदल गई, लेकिन हीर के चाचा को इसकी भनक लग गई और हीर की शादी दूसरे गाँव कर दी गई।



रांझा फकीर बनकर गाँव-गाँव घूमने लगा। जब वह हीर के गाँव में पहुँचा तो उसकी आवाज सुनकर हीर बाहर आई और उसे भिक्षा देने लगी। दोनों एक-दूसरे को देखते रह गए। रांझा रोजाना फकीर बनकर आता और हीर उसे भिक्षा देने। दोनों रोजाना मिलने लगे। यह हीर की भाभी ने देख लिया। उसने हीर को टोका तो रांझा गाँव के बाहर चला गया। सारे लोग उसे फकीर मानकर पूजने लगे। उसकी जुदाई में हीर बीमार हो गई। जब वैद्य हकीमों से उसका इलाज न हुआ तो हीर के ससुर ने रांझे के पास जाकर उसकी मदद माँगी। रांझा हीर के घर चला आया। उसने हीर के सिर पर हाथ रखा और हीर की चेतना लौट आई। जब लोगों को पता चला कि वह फकीर रांझा है तो उन्होंने रांझा को पीटकर गाँव से बाहर धकेल दिया। फिर राजा ने उसे चोर समझकर पकड़ लिया।


रांझा ने जब राजा को हकीकत बताई तो उसने हीर के पिता को आदेश दिया कि वह हीर की शादी रांझा से कर दे। राजा की आज्ञा के डर से उसके पिता ने मंजूरी तो दे दी, लेकिन हीर को जहर दे दिया। जब रांझा वापस लौटा और उसे हीर के मरने की खबर मिली तो उसने भी वहीं दम तोड़ दिया।


हीर मर गई, रांझा मर गया, लेकिन उनकी मोहब्बत आज भी जिंदा है। :cry:



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (35 votes, average: 4.46 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Sharee Chester के द्वारा
January 31, 2017

I wanted to thank you for this great read!! I definitely enjoying every little bit of it I have you bookmarked to check out new stuff you post…

RIZWAN ALAM के द्वारा
January 7, 2016

hume lagta hai agar really mai pyar kisi se dil se kiya jaye to wo jarur milta hai. kash mujhe bhi mera pyar mil jaye.jiska mujhe bahut saalo se intizar hai.

DeepSro के द्वारा
December 31, 2015

wow kya aatmik prem tha great great……………….. next will be Deepsro

priya के द्वारा
June 5, 2015

hmmm…. I Love it… this story in heer ranjha…. Kaas mera pyar bhi mujhe aisa hi ho ……..

Rahul Bisht के द्वारा
September 3, 2014

phle ka jamna alg tha tb k tym m ldka ya ldki ek dusre pr mar mite the pr aaj ka tym to esa h ki ek bar ldai hui ni ki brkup tk baat aa jati h………. or uske baad to sbko pta h kese din katte h… mera kehna to yhi hoga bahi logo se.. ki oye raju pyr na kariyo dariyo dil tut jata h….

Patel Prerak A के द्वारा
January 5, 2014

I like ur Post ….I feel Very gud …..Nice storys…

rajnikant के द्वारा
October 6, 2013

hi i am a very peasefull men

abhishektripathi के द्वारा
February 13, 2012

सादर प्रणाम! मैं मतदाता अधिकार के लिए एक अभियान चला रहा हूँ! कृपया मेरा ब्लॉग abhishektripathi.jagranjunction.com ”अयोग्य प्रत्याशियों के खिलाफ मेंरा शपथ पत्र के माध्यम से मत!” पढ़कर मुझे समर्थन दें! मुझे आपके मूल्यवान समर्थन की जरुरत है!


topic of the week



latest from jagran