Dating Tips

जिन्दगी का महकता गुलदस्ता

218 Posts

721 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2940 postid : 74

काश कि मैं इश्क का बीमार ना होता

Posted On: 13 Dec, 2010 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

यार अभी कुछ दिनों से मैं कुछ ज्यादा ही इश्क लड़ाने के टिप्स देकर थक गया हूं. पर आज आपको पकाऊंगा नहीं बल्कि आपको बताऊंगा कि अगर आपके पास प्रेमिका नहीं है तो आपको कितना फायदा होगा या क्या मजा है प्रेमिका न होने पर.


image32खो प्यार नहीं होगा तो सबसे बड़ा फायदा है यार आपके मोबाइल का बिल कंट्रोल में रहेगा और कभी बैलेंस न भी हुआ तो कोई बात नहीं चलता है यार.


किसी भी लड़की से बात करो कहीं भी, कोई डर नहीं कि अगर किसी ने देख लिया तो पहली वाली क्या कहेगी या मारेगी.


समय और पैसा दोनों की बचत बॉस और मालूम है पैसा और समय से मूल्यवान कोई नहीं होता.


नो गर्लफ्रेंड, नो टेंशन. बिंदास जिंदगी, बिंदास रातें, बिंदास दिन.


गर्लफ्रेंड नहीं होती तो जनाब हर काम में दिल और दिमाग दोनों लगते हैं.


तो देख लिया यह तो सिर्फ कुछ फायदे थे जो गर्लफ्रेंड न होने पर आपको मिलते हैं लेकिन फिर भी अगर आप प्यार के जंजाल में फंसना चाहते हैं तो मैं क्या करुं, मैं भी भुगत रहा हूं आप भी फंसो इस जाल में.



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 2.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Brant Zabaneh के द्वारा
February 1, 2017

Way cool, some valid points! I appreciate you making this article available, the rest of the site is also high quality. Have a fun.

वाहिद के द्वारा
December 14, 2010

जब दिल फंसने को तैयार है तो दिमाग़ की क्या बिसात|

    राहुल के द्वारा
    January 4, 2011

    सही कहा वाहिद जी…

roshni के द्वारा
December 13, 2010

लव गुरु जी क्या हुआ दूसरों को पाठ पढ़ाते पढ़ाते ते आप तो खुद ही फेल हो गए …. चलिए कोई बात नहीं वैसे आज अपने मान ही लिया की आप खुद इस जाल में फसे है इसलिए दूसरों को भी फ़साना चाहते थे …….

    राहुल के द्वारा
    January 4, 2011

    सही कहा रोशनी जी. वो कहते है कई टीचर खुद तो पांचवी पास होते है लेकिन बच्चों को दस्वीं पढ़ाते है …हा हा हा…लेकिन हम इतने भी गए गुजरे नहीं और ये तो जब हम फंस चुके है तो दूसरों को क्यूं छोडे.

abodhbaalak के द्वारा
December 13, 2010

Jeete raho praa, aise hi tip dete raho, kabhi to ……….. Waise bhi aapto love guru ho hi manch ke. Nice work indeed http://abodhbaalak.jagranjunction.com


topic of the week



latest from jagran